जानिए क्या है Top 5 Google Algorithms?

Advertisements

Google Algorithms:क्या अपने कभी यह सोचा है की इतने सारे सर्च इंजिन होने के बावजूद गूगल इतना पॉप्यूलर है? उसका कारण यही है की जब भी हम गूगल पर कुछ भी सर्च करते है तो गूगल हमे वही दिखाता है जो हम ढूंढ रहे होते है। लेकिन आखिर गूगल को केसे पता चलता है की कौनसा जवाब हमारे लिए सही होगा और केसे गूगल हमारे प्रश्न से जुड़ा जवाब देगा।

इन सभी का जवाब गूगल के बेहतरीन 5 Google Algorithms है जो गूगल को अन्य सर्च इंजिन से अलग बनाती है और इसीलिए हम सबका पहला चॉइस है।

दोस्तो अगर आप ब्लॉगर है या Digital marketing फिल्ड में काम करते है तो आपको इन सभी Google Algorithms के बारेमे जानना जरूरी है।

अगर आपको आपकी वेबसाईट को गूगल में रैंक करना है और गूगल को अपने कंटेंट के बारेमे बताना है तो चलिए उन सभी Google Algorithms के बारेमे विस्तार में जानते है।

Google Algorithms

Google Algorithms होती क्या है?

इंटरनेट पर बोहोत सारा डेटा मौजूद है उसपर Search Engine का क्रोलर इस डेटा को क्रोल करता है उसके बाद क्रोलर उस डेटा को अपने सर्वर में स्टोर करता है और गूगल का इंडेक्सर उस डेटा को अलग अलग केटेगरी के हिसाब से डिवाइड करता है।

जब भी कोई यूजर उस का कोई प्रश्न ऑनलाइन सर्च करता है तो गूगल इस सर्वर में से जो भी मैच होता है उसको यूजर के सामने दिखाता है जिसमे वेबसाइट होती है, विडियोज होते है, और ऑनलाइन प्रोडक्ट भी होते है।

यह जो भी देता जहां पर दिखाया जाता है उसे SERP के नाम से जाना जाता है। जिसका पूरा नाम Search Engine Result Page है।

Google Algorithms का काम यही है की इंडेक्सिंग होने के बाद हमारा जो भी डेटा है उस डेटा को गुगल की क्वेरी के हिसाब से बेस्ट तरीके से यूजर के सामने दिखाना।

Google Algorithms एक कॉम्प्लेक्स सिस्टम है जिसके सहारे गूगल अपने यूजर को बेस्ट रिजल्ट देना में खड़ा उतरता है।

एक SEO expert के तौर पर हमारा यही काम रहता है की हम उन अल्गोरिधम को अच्छे से समझे और हमारे ब्लॉग या वेबसाइट में अप्लाई करे जिससे हमारी वेबसाइट गूगल में रैंक करे।

बोहोत से Google Algorithms है और उनमें कुछ इस अल्गोरिधम है जो की बोहोत छोटे से होते है तो कई ऐसे बड़े अल्गोरिधम है जो वेबसाईट को हिला के रख देते है।

1. Panda Algorithm (2011)

साल 2011 के पहले वेबसाईट लोग कही से भी कंटेंट उठाकर अपनी वेबसाईट पर डाल देते थे यह कंटेंट को थिन कंटेंट कहते हैं।
थिन कंटेंट क्या होता है?
थिन कंटेंट एक ऐसा कंटेंट होता है जिसकी गूगल की नजर में कोई कीमत नहीं होती। इसलिए डुप्लीकेट और थिन कंटेंट को सर्च इंजिन से हटाने के लिए गूगल के द्वारा 2011 में panda update को लॉन्च किया गया और जो भी इस कंटेंट को लिखता था उनकी वेबसाइट को डाउन रेंक करना शुरू किया।

Panda Algorithm से बचने के लिए आपको यह बात ध्यान ने रखनी है की आपको कही पर से कंटेंट को कॉपी नहीं करना है और ना ही आपको अपनी वेबसाईट पर क्वालिटी कंटेंट डालने है।

2. Penguin update (2012)

जैसेकी हम सभी जानते है की वेबसाइट की ऑथोरिटी और ट्रैफिक बढ़ाने के लिए बैकलिंक बोहोत ही बड़ा रोल निभाता है और इसीलिए बोहोत सारे Bloggers और Digital Marketers अपने ब्लॉग के लिए कही से भी बैकलिंक बना लेते थे, लिंक स्पेमिंग करते रहते थे इसके कारण गूगल ने इस तरह की लिंक स्पेमनिंग को रोकने के लिए साल 2012 में Penguin update को लॉन्च किया।

अगर आप Penguin update से अपनी वेबसाइट को सुरक्षित रखना चाहते है तो आपको यही करना है की आपको अपनी वेबसाइट पर Quality Backlinks बनाने है और लिंक स्पेमिंग बिलकुल नहीं करनी है।

अच्छी Backlinks बनाने ने के लिए आपको अपनी वेबसाइट से हाई ऑथोरिटी वाली वेबसाइट से बनाने है। एक हाई ऑथोरिटी बैकलिंक सो खराब लिंक से भी अच्छी है।

3. Hummingbird Update

किसी भी वेबसाइट के कॉन्टेंट को Organic Traffic लेने के लिए उस कंटेंट से जुड़े कीवर्ड को अच्छे से यूज़ करना जरूरी होता है लेकिन वही कुछ लोग कीवर्ड को सही से उपयोग में लेने के बजाय ज्यादा कीवर्ड को कंटेंट में डालते रहते थे जिसे हम कीवर्ड स्टेफिंग कहते है।

इस तरह के कंटेंट में ब्लॉगर्स कीवर्ड डेंसिटी को ज्यादा महत्व देते थे यानिकि कीवर्ड को हर लाईन में उपयोग करते थे।
Hummingbird Update से बचने के लिए आपको अपने कंटेंट में Keyword Stuffing नही करना है नेचरल तरीके से कीवर्ड का उपयोग करना है और क्वालिटी कंटेंट को लिखते रहिए।

4. Rankbrain (2015)

गुगल ने खुद कई बार यह बोला है की Rankbrain एक बोहोत ही important algorithm है और अगर गूगल ने कहा है तो हमे इसे समझना बोहोत जरूरी है।

गूगल बेस्ट इसीलिए है क्युकी वो अपने यूजर तक जितना हो उतना पर्फेक्ट रिजल्ट भेजता है। इसका का सबसे बड़ा ध्येय यही है की अच्छे से अच्छा रिजल्ट दिखाए।

गूगल हमसे यही उम्मीद रखता है की हम हमारी वेबसाइट से जुड़ी सभी चीजे सही से दिखाए जो भी केटेगरी में है उस केटेगरी से ही दिखाए। इससे गुगल को यूजर से जुड़े प्रोब्लम का सॉल्यूशन देने में आसानी होगी।

जेसैकी हमने पहले कहा की गूगल का ध्येय है यूजर तक सही इन्फोर्मेशन पोहचाना और इसके लिए आपको अपनी वेबसाइट पर relevant content डालना है। आप जो भी कीवर्ड को इस्तेमाल करे उसे यूजर इंटेंट को ध्यान ने रखकर करे।

इस अल्गोरिधम के आने के बाद ही यूजर इंटेंट कीवर्ड का इस्तेमाल होने लगा। जो भी आपके सोशियल मीडिया रेपुटेशन है वो भी आपके कंटेंट से जुड़े होने चाहिए।

5. Page Experience Update (2021)

इस अपडेट के जरिए गूगल ने यह सुनिश्चित किया की जो भी वेबसाईट का User Experience अच्छा होगा, लोड टाइम कम होगा, क्वालिटी पेजेस होंगे इसी वेबसाईट को पहले नंबर पर रखना है।

इस Update के बाद Technical SEO की अहमियत बढ़ गई है और जेसाकी हमने पहले भी बात की है की Technical SEO भी बोहोत जरूरी है।

Conclusion
वैसे तो और भी बोहोत सी अपडेट है लिकन अगर अपने इतनी अपडेट को अच्छे से कर लिया तो आपकी वेबसाइट को रैंक होने में बोहोत ही आसानी होगी।

यदि आप ब्लॉगर है और आपकी वेबसाइट है तो आपको अपनी वेबसाइट को रेंक करवाने के लिए Google Algorithms को समझना जरुरी है. अगर आपको अपनी वेबसाइट में कोई भी ऐसा कंटेंट दिख रहा है जो Google Algorithms के विरुद्ध है तो अभी उसे अपनी वेबसाइट से निकाले।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.